पंजाब में दिव्यांग वोटरों के लिए मतदान समय रैड कार्पेट बिछाए जाने की तैयारी

0
88

चंडीगढ़

भारतीय चुनाव आयोग ने जहां इस बार दिव्यांग वोटरों के लिए विशेष प्रबंध किए हैं, वहीं पंजाब के चुनाव अधिकारी इसके लिए कुछ ज्यादा ही सक्रिय हैं। राज्य के चुनाव से जुड़े प्रमुख अधिकारियों के प्रयासों का ही परिणाम है कि पिछले 4 माह के समय दौरान दिव्यांग वोटरों की संख्या लगभग दोगुनी हो गई है। राज्य चुनाव कार्यालय की ओर से मतदान वाले दिन दिव्यांग वोटरों के स्वागत के लिए रैड कार्पेट बिछाए जाने जैसी तैयारी की जा रही है और मतदान केंद्र तक पहुंचाने के लिए कैब तक की नि:शुल्क सुविधा प्रदान की जाएगी। 31 जनवरी तक इन वोटरों की संख्या 68,551 थी जबकि अब चुनाव के नामांकन से पहले दर्ज हुए नए दिव्यांग वोटरों के बाद यह संख्या 1.10 लाख हो गई है। इन दिव्यांग वोटरों में नेत्रहीनों की संख्या 8,206, बोलने व सुनने में असमर्थ लोगों की संख्या 6,461 है जबकि चलने-फिरने में असमर्थ दिव्यांग वोटरों की संख्या 52,287 है।

पंजाब में आबादी के हिसाब से सभी प्रकार के दिव्यांगों की कुल संख्या 6,54,063 है।दिव्यांग वोटरों को उनके मताधिकार के प्रति जागरूक करने के लिए राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय की ओर से दिव्यांगों से ही संबंधित 2 प्रमुख शख्सियतों को विशेष आईकॉन बनाया गया है। इनमें सड़क हादसों से जुड़ी एन.जी.ओ. प्रमुख हरमन सिद्धू तथा पंजाबी विश्वविद्यालय पटियाला में कार्यरत डा. किरण कुमारी हैं। सिद्धू खुद भी एक सड़क हादसे में दिव्यांग हुए हैं जबकि डा. किरण नेत्रहीन हैं जो राज्यभर में घूमकर अपने अनुभवों को दिव्यांग वोटरों में बांटने के साथ-साथ उन्हें वोट के अधिकार के इस्तेमाल के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

मतदान के लिए घर से बूथ तक लाने व छोडऩे के लिए ट्रांसपोर्ट सुविधा। विशेष बे्रल बैलेट पेपर व एप। ऊपरी मंजिलों पर बने पोङ्क्षलग बूथों तक जाने के लिए रैंप। पंचायत व स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से व्हीलचेयर की सुविधा। बिना लाइन में लगे मतदान करने की छूट। पोलिंग बूथों पर एन.एस.एस. व एन.सी.सी. वालंटियर्स करेंगे सहायता। पंजाब के मुख्य चुनाव अधिकारी डा. एस. करुणा राजू का कहना है कि दिव्यांग वोटरों को वोट के अधिकार के प्रति जागरूक करने के लिए व आयोग द्वारा उन्हें मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी देने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। एस.डी.एम. स्तर तक के चुनाव से जुड़े अधिकारी खुद दिव्यांगों के घरों तक जाकर उनसे सीधा संपर्क कर रहे हैं। गर्मी के मौसम के मद्देनजर भी दिव्यांग वोटरों को मतदान के लिए समय आने वाली मुश्किलों से बचाने के लिए अभी से किए जाने वाले प्रबंधों की तैयारी की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here