भाजपा की बिहार में दाल नहीं गलने वाली : डॉ. अनिल कुमार साहनी

118
भाजपा की बिहार में दाल नहीं गलने वाली : डॉ. अनिल कुमार साहनी
भाजपा की बिहार में दाल नहीं गलने वाली : डॉ. अनिल कुमार साहनी

पटना समाचार : बिहार में वर्चुअल रैली के माध्यम से देश के गृहमंत्री अमित शाह द्वारा चुनावी शंखनाद पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये राजद प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व सांसद डॉ अनिल कुमार साहनी ने कहा की इस रैली के माध्यम से भाजपा नेता अमित शाह द्वारा गरीबों की गरीबी का मजाक एवं अपमानित करने का कार्य किया गया है। राजद नेता साहनी ने कहा कि वर्चुअल रैली के प्रचार के लिए एलईडी स्क्रीन पर औसत एक पर खर्च 20,000 रूपये है अमित शाह की रैली में 72 हज़ार एलईडी स्क्रीन लगाए गये हैं यानी 144 करोड़ सिर्फ एलईडी स्क्रीन पर खर्च किए गये। डॉ साहनी ने कहा कि श्रमिक एक्सप्रेस में मजदूरों का किराया 600 रूपये था। वो किराया देने के लिये न तो इनकी एनडीए सरकार आगे आयी न ही इनकी पार्टी बीजेपी उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में इन 144 करोड़ रूपये का बिहारी प्रवासी मजदूरों के घर भेजने में लगाए होते तो घर आने वाले बिहारी मजदूरों को सडक़ पर पैदल रेलवे पटरी पर परेशान एवं मौत का समना नहीं करना पड़ता। डॉ साहनी ने कहा कि गरीबों के खेाली पेट, दु:ख.दर्द, लाचारी एवं लाशों पर राजनीति करने वाले राजनीतिक सियासी सियारों की प्राथमिकता गरीब नहीं बल्कि गरीबों की लचारी का मजाक उड़ाना मात्र है। डॉ साहनी ने कहा कि बिहार के गरीबों ने बिहार के भविष्य तेजस्वी यादव के आवहन पर गरीबों ने श्गरिब अधिकार दिवस को खाली पेट से खाली कटोरा खाली थाली बजाकर देश को बताने का कार्य किया है कि बिहार में अब भाजपा का दाल गलने वाला नहीं है।