2.3 C
Munich
Saturday, December 9, 2023

नरोडा गांव दंगा फैसला सुनाने से पहले जज का तबादला

Must read

2002 दंगे में गुजरात की तत्कालीन नरेंद्र मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री रहीं माया कोडनानी भी आरोपित

अहमदाबाद

गुजरात हाई कोर्ट ने वर्ष 2002 के नरोडा गांव दंगे की सुनवाई कर रहे विशेष एसआइटी जज एमके दवे का तबादला प्रधान जिला न्यायाधीश वलसाड के पद पर कर दिया है। इस दंगे में गुजरात की तत्कालीन नरेंद्र मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री रहीं माया कोडनानी भी आरोपित हैं। यह दंगा गोधरा कांड के बाद हुआ था. जिसमें दंगाईयों ने 11 अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को मार दिया था। अहमदाबाद सिविल कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एमके दवे का तबादला वलसाड जिले के प्रधान न्यायाधीश पद पर किया गया है। उनकी जगह पर एसके बक्शी को नियुक्त किया गया है, जो अब तक भावनगर के प्रधान जिला न्यायाधीश थे’ जज दवे नरोडा गांव दंगे में अंतिम बहस की सुनवाई कर रहे थे। पूर्व मंत्री कोडनानी के वकील ने पिछले ही सप्ताह अपनी जिरह शुरू की थी।

godhra kand

इस मामले में अभियोजन और कई आरोपितों के वकील की दलील पूरी हो चुकी है। जज दवे के तबादले के बाद अब संभव है कि नए जज को सुनवाई के अंतिम दौर की सभी दलीलें नए सिरे से सुननी पड़ें। कोर्ट ने इस मामले में फरवरी 2018 से बयान दर्ज करने शुरू किए थे। इससे पहले मामले की सुनवाई कर रहे प्रधान सत्र न्यायाधीश बीपी देसाई दिसंबर 2017 में सेवानिवृत्त हो गए थे। जज दवे उन 18 प्रधान जिला न्यायाधीशों में से एक हैं, जिनका स्थानांतरण गुजरात हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने किया है. उन्होंने 17 डिवीजन के सत्र न्यायाधीश भी नियुक्त किए हैं।

नरोडा गांव दंगा गोधरा कांड के बाद हुए उन नौ प्रमुख दंगों में से है, जिनकी जांच हाई कोर्ट की तरफ से गठित विशेष जांच दल (एसआइटी) ने की थी। इस दंगे में अहमदाबाद के नरोडा गांव इलाके में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के 11 सदस्य मारे गए थे. इसमें कुल 82 लोग आरोपित हैं। जिसमें गुजरात की तत्कालीन नरेंद्र मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री रहीं माया कोडनानी भी आरोपित हैं।

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article