3.7 C
Munich
Friday, April 19, 2024

ईशा फाउंडेशन के सद्गुरु की ब्रेन सर्जरी: दिमाग के एक हिस्से में सूजन और ब्लड क्लॉटिंग थी, डॉक्टर बोले- यह जानलेना साबित हो सकता था

Must read

[ad_1]

नई दिल्ली1 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
सद्गुरु का सर्जरी के बाद बातचीत करते हुए यह वीडियो बुधवार को सामने आया है। - Dainik Bhaskar

सद्गुरु का सर्जरी के बाद बातचीत करते हुए यह वीडियो बुधवार को सामने आया है।

आध्यात्मिक गुरु और ईशा फाउंडेशन कोयंबटूर के संस्थापक सद्गुरु जग्गी वासुदेव की ब्रेन सर्जरी सफल रही। उन्हें कई दिनों से सिरदर्द की शिकायत थी। ऑपरेशन के बाद उनकी सेहत में लगातार सुधार हो रहा है।

अपोलो दिल्ली के न्यूरो सर्जन डॉ. विनीत सूरी ने हेल्थ बुलेटिन में कहा है कि जिस तरह का सूजन और ब्लड क्लॉटिंग सद्गुरु के ब्रेन के एक हिस्से में थी, वो उनके लिए जानलेवा साबित हो सकती थी। हालांकि, 17 मार्च को ऑपरेशन के बाद उनकी हालत में काफी तेजी से सुधार हो रहा है।

पिछले चार हफ्ते से सिरदर्द की शिकायत थी
ईशा फाउंडेशन के अधिकारियों ने बताया कि सद्गुरु को पिछले 3-4 सप्ताह से सिरदर्द की शिकायत थी। फिर भी वे लगातार काम कर रहे थे। 14 मार्च को उन्होंने दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल के न्यूरो सर्जन डॉ. विनीत सूरी से कंस्लट किया।

MRI में पता चला कि उनके सिर के एक हिस्से में खून जम रहा है। सूजन भी है। इसके बावजूद भी वे कुछ जरूरी मीटिंग करते रहे। 17 मार्च को उनकी तकलीफ काफी बढ़ गई, जिसके बाद उन्हें अपोलो दिल्ली में भर्ती किया गया।

सर्जरी के बाद बोले सद्गुरु का मजाकिया अंदाज, बोले- दिमाग खाली निकला
17 मार्च को ही डॉक्टर्स की एक टीम ने ऑपरेशन करके क्लाटिंग हटाई। कुछ समय के लिए उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर भी रखा गया। सदगुरु की सेहत में लगातार सुधार हो रहा है। बुधवार को खुद सदगुरु ने भी एक वीडियो जारी कर अपनी सेहत के बारे में बताया।

उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा कि डॉक्टर्स ने मेरे सिर खोल कर कुछ खोजने की कोशिश की लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिला। सिर पूरी तरह खाली था तो उन्होंने फिर से उसे सिल दिया। अब मैं ठीक हूं।

ये खबर भी पढ़ें…

भूलना कोई बीमारी नहीं, सामान्य बात है: ये दिमाग के वर्किंग सिस्टम का हिस्सा, एक्सपर्ट बोले- याददाश्त मजबूत करने की कोशिश करें

अक्सर जब हमसे अचानक कहीं कोई परिचित मिलता है, तब उसका चेहरा तो याद रहता है, मगर नाम याद नहीं आता। कई बार सामान रखकर भूल जाते हैं, कहां रखा था, जरूरत के समय ये याद नहीं आता। खूब पढ़कर जाते हैं, लेकिन परीक्षा केंद्र में सवाल का जवाब याद नहीं आता। पढ़ें पूरी खबर…

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article