12 C
Munich
Sunday, March 3, 2024

Ram Mandir: अयोध्या से 1,000 किमी से दूर, एक और राम मंदिर का हुआ भव्य उद्घाटन, जानिए – India TV Hindi

Must read


Image Source : FILE PHOTO
नवागढ़ में राम मंदिर का हुआ उद्घाटन

ऐतिहासिक शहर अयोध्या से 1,000 किमी से दूर, एक और भव्य राम मंदिर का सोमवार, 22 जनवरी 2024 को उद्घाटन हुआ और यह भी एक आध्यात्मिक मील का पत्थर बन गया। यह मंदिर अयोध्या से 1,000 किलोमीटर से दूर है और ओडिशा में समुद्र तल से लगभग 1,800 फीट ऊपर एक पहाड़ी पर खड़ा है। जैसे ही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में रामलला के भव्य राम मंदिर के उद्घाटन पर अभिषेक अनुष्ठान किया, नयागढ़ का फतेहगढ़ गांव भी भगवान राम को समर्पित 73 फुट ऊंचे मंदिर के उद्घाटन का गवाह बना।

भक्तों के दान से बना मंदिर

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, 165 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर राज्य भर के ग्रामीणों और भक्तों के उदार दान के माध्यम से पूरा हुआ है। फतेहगढ़ के निवासियों ने मंदिर के निर्माण के लिए आवश्यक धनराशि का आधा योगदान दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मंदिर का निर्माण कार्य साल 2017 में शुरू हुआ था और इस मंदिर की परियोजना के निर्माण कार्य में 150 से अधिक समर्पित श्रमिकों ने अपना श्रमदान दिया जिसके बात यह मंदिर उन श्रमिकों के लिए भगवान राम के प्रति प्यार की ऐसी कहानी बन गई, जिसे बनाने के लिए सात वर्षों से अधिक की मेहनत की गई।

पर्यटन की बेहतर संभावना

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार, उद्घाटन के बाद पहाड़ी मंदिर के पर्यटन के लिए एक बेहतर स्थल बनने उम्मीद है। ओटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, इस प्रयास की जड़ें 1912 के ‘नबकलेबर’ से मिलती हैं – जो कि जगन्नाथ, बलभद्र और शुभद्रा के लकड़ी के प्रतीकों का पुनर्निर्माण है – जहां फतेहगढ़ ने लकड़ी के लिए एक पवित्र वृक्ष प्रदान करके महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जो अनुष्ठान का हिस्सा था। इस ऐतिहासिक संबंध का सम्मान करने और इस घटना को मनाने के लिए, ग्रामीणों ने श्री राम सेवा परिषद समिति का गठन किया, जिसने मंदिर की शुरुआत और अंततः समापन का नेतृत्व किया।

मंदिर का है समृद्ध इतिहास

ओटीवी के अनुसार, मंदिर का स्थान एक समृद्ध इतिहास रखता है, स्थानीय लोग बताते हैं कि सूखे के समय में, बारिश के लिए प्रार्थना के रूप में इसी स्थान पर प्रार्थना की जाती थी, इसे गिरि गोवर्धन कहा जाता था। पारंपरिक ओडिया वास्तुकला शैली में निर्मित, प्रतिष्ठित तारा तारिणी और कोणार्क मंदिरों जैसी प्रतिष्ठित संरचनाओं की याद दिलाते हुए, मंदिर का गर्भगृह 65 फीट की प्रभावशाली ऊंचाई तक जाता है। मुख्य मंदिर के चारों ओर सूर्य देव, भगवान शिव, भगवान गणेश और भगवान हनुमान को समर्पित चार अतिरिक्त मंदिर हैं।

Latest India News





Source link

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article