8.7 C
Munich
Tuesday, March 5, 2024

राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह के दिन सीएम हिमंत शर्मा ने राहुल गांधी पर किया कटाक्ष – India TV Hindi

Must read


Image Source : PTI
राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह के दिन सीएम हिमंत शर्मा ने राहुल गांधी को बताया रावण

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने सोमवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा और उन्हें ‘रावण’ कहा। बता दें कि राहुल गांधी इन दिनों ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के हिस्से के रूप में उत्तर-पूर्वी राज्य में यात्रा कर रहे हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने हिमंता से राहुल गांधी की उन पर हमला करने वाली टिप्पणियों पर उनकी प्रतिक्रिया के बारे में पूछा, तो शर्मा ने एएनआई के हवाले से कहा, “आप आज रावण के बारे में क्यों बात कर रहे हैं?”

“रावण के बारे में बात नहीं करनी चाहिए”

सीएम हिमंता ने आगे कहा,”कम से कम आज राम के बारे में बात करें। हमें 500 साल बाद राम के बारे में बात करने का अवसर मिला है। हमें केवल बात करनी चाहिए उसके बारे में, रावण के बारे में नहीं।” सरमा अयोध्या में राम मंदिर के ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह का जिक्र कर रहे थे। बता दें कि इससे पहले हिमंता ने कहा था, “राहुल गांधी अब सिर्फ़ मुझसे ही नहीं डरते हैं, बल्कि मेरे बच्चों से भी डरते हैं।”

धरने पर बैठ गए राहुल

असम के नगांव में सोमवार को जबरदस्त ड्रामा हुआ, जब गांधी को नगांव जिले में श्री श्री शंकरदेव सत्र का दौरा करने और मोरीगांव जिले में बैठक करने से रोक दिया गया। विरोध में, गांधी ने सवाल किया कि क्या पीएम मोदी अब यह तय करेंगे कि कौन मंदिर जाएगा और कब जाएगा। राहुल गांधी 15वीं सदी के समाज सुधारक श्रीमंत शंकरदेव की जन्मस्थली सतरा के लिए सुबह-सुबह निकले थे, लेकिन उन्हें हैबरगांव में रोक दिया गया, जिसके बाद वह पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ धरने पर बैठ गए। कांग्रेस ने यह भी दावा किया कि अधिकारियों ने उन्हें रोकने का कोई कारण नहीं बताया।

‘क्या पीएम मोदी तय करेंगे कि कौन मंदिर जाएगा?’

राहुल गांधी ने पुलिस अधिकारियों से पूछते हुए कहा, “क्या पीएम मोदी अब तय करेंगे कि कौन मंदिर जाएगा और कब?… हम कोई समस्या नहीं चाहते हैं, हम बस मंदिर में प्रार्थना करना चाहते हैं।” राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी ने उन्हें प्रतिष्ठित संत के जन्मस्थान पर जाने और श्रद्धांजलि अर्पित करने से रोकने के लिए असम सरकार पर दबाव डाला।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि वह शंकरदेव के दर्शन में विश्वास करते हैं क्योंकि ”हम, उनकी तरह, लोगों को एक साथ लाने और नफरत फैलाने में विश्वास नहीं करते हैं।” वह हमारे लिए गुरु की तरह हैं और हमें दिशा देते हैं। इसलिए मैंने सोचा था कि जब मैं असम आऊंगा तो उन्हें अपना सम्मान दूंगा।”

ये भी पढ़ें:

स्मृति ईरानी ने ‘बरसाती मेढक’ से कर दी राहुल गांधी की तुलना, जानें पूरा मामला

Latest India News





Source link

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article