2.1 C
Munich
Friday, April 19, 2024

ED का दावा- कविता ने केजरीवाल-सिसोदिया को 100 करोड़ दिए: गिरफ्तारी के खिलाफ कविता की SC में अर्जी; AAP बोली- ईडी BJP की राजनीतिक शाखा

Must read

[ad_1]

नई दिल्ली57 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
दिल्ली शराब नीति मामले में अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ BRS नेता के.कविता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। - Dainik Bhaskar

दिल्ली शराब नीति मामले में अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ BRS नेता के.कविता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है।

दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले में BRS नेता के.कविता की गिरफ्तारी के तीन दिन बाद 18 मार्च को ED की ओर बयान जारी किया गया। एजेंसी ने दावा किया है कि के.कविता ने दिल्ली एक्साइज पॉलिसी के निर्माण और लागू करने में लाभ पाने के लिए AAP के सीनियर लीडर्स के साथ साजिश रची।

एजेंसी का दावा है कि इसके लिए दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को 100 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया।

18 मार्च को कविता ने अपनी गिरफ्तारी के विरोध में सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। उन्होंने अपनी गिरफ्तारी को चैलेंज किया है। फिलहाल उन्हें 23 मार्च तक ED की रिमांड में भेज दी गई हैं।

इधर, AAP ने दावा किया है कि ED, BJP की राजनीतिक शाखा की तरह काम कर रही है। सीएम अरविंद केजरीवाल पर लगे आरोप सरासर गलत हैं।

15 मार्च को के.कविता को हैरदाबाद में गिरफ्तार कर दिल्ली लाया गया था। वे 23 मार्च तक ED की रिमांड में हैं।

15 मार्च को के.कविता को हैरदाबाद में गिरफ्तार कर दिल्ली लाया गया था। वे 23 मार्च तक ED की रिमांड में हैं।

ED का दावा- एहसान के बदले 100 करोड़ का भुगतान किया
ED का दावा है कि के.कविता को दिल्ली एक्साइज पॉलिसी बनाने और लागू करने में AAP नेताओं की मदद मिली। इस एहसान के बदले उन्हें 100 करोड़ रुपए का भुगतान के.कविता ने किया है। एजेंसी का कहना है कि मामले की जांच के दौरान इन बातों का पता चला है।

जांच एजेंसी का कहना है कि शराब के होलसेलर्स के जरिए आम आदमी पार्टी के लिए रिश्वत ली गई थी। इसके अलावा कविता और उसके सहयोगियों को AAP को अग्रिम भुगतान की गई राशी की वसूली करनी थी। उन्हें प्रॉफिट कमाना था।

ED ने कहा है कि 23 मार्च तक सात दिन की रिमांड में के.कविता से इस मामले में पूछताछ की जाएगी। इस मामले में ED ने अब तक दिल्ली, हैदराबाद, चेन्नई, मुंबई और अन्य स्थानों सहित देश भर में 245 स्थानों पर रेड मारी है।

मामले में अब तक AAP के मनीष सिसौदिया, संजय सिंह और विजय नायर समेत कुल 15 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। एजेंसी अब तक 5 सप्लीमेंट्री कंप्लेंट और एक प्रॉसिक्यूशन कंप्लेंट दाखिल कर चुकी है।

साथ ही अपराध से प्राप्त आय में से अब तक 128.79 करोड़ रुपए की संपत्ति का पता लगाया गया है। 24 जनवरी 2023 और 3 जुलाई 2023 के वाइड प्रोविजनल अटैचमेंट ऑर्डर के जरिए से अटैच किया गया है। दोनों कुर्की आदेशों की पुष्टि निर्णायक प्राधिकरण ने की है।

वहीं, अपनी गिरफ्तारी को गलत बताते हुए याचिका दाखिल की है। कविता कहना है कि उनके खिलाफ ED की कार्रवाई को रद्द किया जाए। क्योंकि यह पूरी तरह से गैरकानूनी है। उन्होंने कहा है कि ED का यह एक्शन अवैध, असंवैधानिक और मनमाना है। साथ ही एजेंसी के SC में कही अपनी बात के विपरीत है। विशेष रूप से एक महिला के लिए मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट, 2022 धारा 19 के प्रावधानों का भी उल्लंघन है।

AAP का आरोप- BJP के लिए पॉलिटिकल विंग की तरह काम कर ही ED
इधर, AAP ने आरोप लगाया है कि ED भाजपा के लिए पॉलिटिकल विंग की तरह काम कर ही है। CM अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दिल्ली एक्साइज पॉलिसी में ED के लगाए आरोप सरासर झूठे हैं।

AAP ने कहा, “पहले भी कई मौकों पर ईडी ने इस तरह के बेहद झूठे और तुच्छ बयान जारी किए हैं, जिससे पता चलता है कि एक निष्पक्ष जांच एजेंसी होने के बजाय, यह भाजपा की राजनीतिक शाखा की तरह काम कर रही है।”

ED के आरोप हर दिन झूठ फैलाकर और मीडिया में सनसनी पैदा करके उसके केजरीवाल और पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया की छवि खराब करने का एक हताश प्रयास है।

एजेंसी के बयान में कोई नया सबूत पेश नहीं किया गया है। यह एजेंसी की निराशा को दर्शाता है। क्योंकि 500 से अधिक छापे मारने और हजारों गवाहों से पूछताछ करने के बावजूद उन्होंने इस मामले में एक भी रुपए का सबूत नहीं मिला है।

AAP का दावा है कि सुप्रीम कोर्ट भी ED के 100 करोड़ रुपए दिए जाने के दावे को खारिज कर चुकी है। इस मामले में 100 करोड़ रुपए के कोई लेन-देन मौजूद नहीं है। पूरी दुनिया जानती है कि ये दिल्ली एक्साइज पॉलिसी मामला फर्जी है और इसमें कोई सबूत नहीं है। एजेंसी ने सिसौदिया समेत कई आप नेताओं के घर पर छापेमारी की लेकिन उन्हें एक भी रुपया नहीं मिला।

जिन कंपनियों पर एक्शन हुआ, उन्होंने BJP को इलेक्टोरल बॉन्ड दिए
AAP ने कहा है कि BJP को चुनावी बॉन्ड देने वाली लगभग सभी कंपनियों पर पहले ED ने छापेमारी की थी। इसका मतलब है कि जिन कंपनियों पर एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगाया है, उन्होंने छापेमारी के तुरंत बाद अपराध से प्राप्त रकम बीजेपी के खातों में ट्रांसफर कर दी। इनमें वो कंपनियां भी शामिल थीं, जिन पर एक्साइज पॉलिसी मामले में ED ने छापेमारी की थी। इन कंपनियों ने बाद में बीजेपी को इलेक्टोरल बॉन्ड डोनेट किए।

यह खबर पढ़ें

दिल्ली शराब नीति केस में BRS नेता कविता गिरफ्तार: ED ने हैदराबाद में 8 घंटे की रेड के बाद कार्रवाई की, दिल्ली रवाना
दिल्ली शराब घोटाले मामले में​​ प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने तेलंगाना के पूर्व CM केसीआर की बेटी और विधायक के. कविता (46) को शुक्रवार को हैदराबाद में गिरफ्तार कर लिया। जांच एजेंसी उन्हें पूछताछ के लिए दिल्ली ले जा रही है। इससे पहले ED ने शुक्रवार सुबह 11 बजे BRS नेता कविता के हैदराबाद स्थित घर पर रेड डाली थी। करीब 8 घंटे की तलाशी और कार्रवाई के बाद शाम 7 बजे उन्हें पहले हिरासत में लिया गया। उसके बाद अरेस्ट किया गया। पूरी खबर पढ़ें

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article