प. बंगाल : दूसरे चरण में सभी बूथों पर नहीं रहेगी केंद्रीय बलों की तैनाती

0
132

कोलकाता

पश्चिम बंगाल में दूसरे चरण के चुनाव के लिए सभी बूथों पर केंद्रीय शस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की तैनाती संभव नहीं दिख रहा। विपक्षी दलों की ओर से सभी बूथों पर केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग से इतर तीन संसदीय सीटों जलपाईगुड़ी, रायगंज, दार्जिलिंग के कुल 5390 मतदान केंद्रों के लिए 134 कंपनियां ही तैनात की जाएंगी। इसके अलावा शस्त्र राज्य पुलिस को बूथों पर तैनात किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक राज्य की ओर से अतिरिक्त केंद्रीय बलों की मांग पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अपना पक्ष स्पष्ट कर दिया है। वहीं, राज्य में विशेष केंद्रीय पुलिस पर्यवेक्षक विवेक दुबे ने शनिवार को कहा कि 134 कंपनियों को तीसरे चरण के चुनाव में तैनात किया जाएगा। बता दें कि यहां 18 अप्रैल को चुनाव होना है।

चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार उक्त तीन संसदीय सीटों के लिए कुल बूथों की संख्या 5390 है। इसके लिए कुल 134 सीएपीएफ कंपनियों को तैनात किया जाएगा। अमूमन एक कंपनी में 100 जवान होते हैं। इनमें से सभी को बूथों पर तैनात नहीं किया जाता और कुछ अन्य जिम्मेवारियां भी जवानों के जिम्मे होती हैं। एक हिसाब यह भी है कि संसदीय क्षेत्र विशेष के तहत कितने मतदान केंद्र संवेदनशील है, उस पर जवानों की तैनाती निर्भर करती है। सूत्रों के मुताबिक दार्जिलिंग, कलिम्पोंग और कार्शियांग में लगभग 80 फीसद बूथ संवेदनशील के रूप में चिन्हित हैं।

दार्जिलिंग में 874 बूथों में से 685 बूथ संवेदनशील चिन्हित है। इसी तरह बाकी दो संसदीय क्षेत्रों में भी कई बूथ संवेदनशील है ऐसे में 134 सीएपीएफ कंपनियों के जवानों को सभी बूथों पर तैनात किया जाना संभव नहीं दिखता। वहीं, आयोग सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार द्वितीय चरण में तीन सीटों पर 134 कंपनी केंद्रीय बलों को तैनात किया जा रहा है। इनमें 31 कंपनी सीआरपीएफ, 67 कंपनी बीएसएफ, 11 कंपनी मेघालय पुलिस, 10 कंपनी एसएसबी, 5 कंपनी नागालैंड पुलिस, 8 कंपनी सिक्किम पुलिस, 2 कंपनी त्रिपुरा पुलिस की शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here